जवाहरलाल नेहरू स्नातकोत्तर महाविद्यालय

जवाहरलाल नेहरू स्नाकोत्तर महाविद्यालय प्रकृति के सुरम्य वातावरण में अवस्थित है । मानव सदियों से प्रकृति की गोद मे पल्लवित होता रहा है । इसी से हमारे ऋषियों व तपस्वियों ने आध्यात्मिक चेतना को आत्मसात किया और इसी के सौन्दर्य से मुग्ध होकर न जाने कितने कवियों की आत्मा से कविताएँ फूट पड़ी । दरअसल मानव और प्रकृति के बीच गहरा सम्बन्ध है , दोनों एक दूसरे के पूरक हैं । मानव अपनी भावाभिव्यक्ति के लिए प्रकृति की ओर देखता है । और उसकी सौन्दर्यमयी बलवती जिज्ञासा प्रकृति सौन्दर्य से विमुख होकर सचेतन सत्ता का अनुभव करने लगती है । काव्य रचनाएं , सन्तों , कवियों के वचन सभी प्रकृति की गुणवता और उसकी महत्ता को रेखांकित करते हैं ।

Read More

FROM PRINCIPAL DESK

NEWS

अभिव्यक्ति...
“विश्वविद्यालयों का अस्तित्व मानवतावाद के लिए सहिष्णुता और विवेक लिए विचारगत साहस और सत्य की खोज के लिए होता है। उनका लक्ष्य है कि मानव समाज के निरन्तर उच्चतर उदेदश्यों की ओर कदम वढाये, राष्ट्र और जनता की भलाई इसी में है कि विश्वविद्यालय अपने दायित्वों का समुचित निर्वहन करते रहे” - यह कथन पं० जवाहरलाल नेहरू का है जिन्होने उच्च शिक्षा के उदेदश्यों और राष्ट्र जीवन में उनकी भूमिका को रेखांकित करते हुए कहा था ।

Read More

Trainings

Events

What Our Students Say

Contact Us


ADMISSION OFFICE:
Bansgaon, Gorakhpur, Uttar Pradesh
Zip Code - 273403, INDIA
CALL / WHATSAPP:
8299181753 | 8299181753 |
9956214546

EMAIL US:
principal_bansgaon@yahoo.com

Map Location


© 2022 Copyrights जवाहरलाल नेहरू स्नातकोत्तर महाविद्यालय. All Rights Reserved.   Designed By - Tech Relevant

Top